हिमाचल अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना 3 लाख रु – आवेदन फार्म

हिमाचल अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना, हिमाचल प्रदेश अंतरजातीय विवाह राशि 3 लाख रूपए आवेदन फार्म, Himachal Pradesh Inter Caste Marriage Benefit Scheme. 

प्रिय पाठको, आज हम आपको हिमाचल सरकार की तरफ से शुरू एक बहुत ही अच्छी योजना के बारे मे जानकारी देने जा रहे है। इस योजना का नाम है “हिमाचल अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना”। इस योजना के तहत जो भी युवाक या फिर युवती अपनी जाति से बाहर किसी अन्य जाति के लड़के या लड़की से शादी करती है तो उसे राज्य सरकार की तरफ से प्रोत्साहन राशि दी जाएगी।

हिमाचल अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना

इस योजना के तहत लाभ लेने के लिए हिमाचल प्रदेश की राज्य सरकार ने कुछ नियम और कानून बनाए है। अगर आप इस योजना का लाभ लेना चाहते है तो आपको इन सभी शर्तो को पूरा करना होगा। आज हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से बताएँगे की कोण से युवक और युवतीया इस योजना के तहत पात्र है। आवेदन करते समय उनके पास कोन से दस्तावेज़ होना जरूरी है। आइये जाने अंतरजातीय विवाह योजना हिमाचल प्रदेश।

हिमाचल अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना

इस योजना की पूरी जानकारी लेने से पहले आपका यह जानना अति आवशयक है की अंतरजातीय विवाह क्या होता है। जब कोई लड़का या लड़की अपनी जाति के बाहर किसी अन्य जाति के लड़का या लड़की से शादी करते है तो उसे अंतरजातीय विवाह कहते है। यह अंतरजातीय विवाह वैसे तो प्रेम विवाह ही होते है। क्योकि आजकल युवक और युवतिया अपने जीवन साथी का चुनाव खुद ही करती है। और हमे यह भी पता है की आजकल के बच्चे जातिवाद मे ज्यादा विश्वास भी नहीं रखते है।

अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना हिमाचल प्रदेश

जब कोई प्रेम जोड़ा समाज से बाहर जाकर अपनी पसंद की शादी करता है तो कई बार तो उन्हे घर से साथ मिल जाता  है। परंतु कई बार उन्हे घर से भागना पड़ता है। एसे मे उनके पास अपने जीवन की नई शुरुआत करने के लिए पैसे तक नहीं होते है। परंतु अब इस योजना के तहत उन्हे हिमाचल प्रदेश सरकार की तरफ से प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। ताकि प्रेमी जोड़ा इन पैसो से अपने जीवन की नई शुरुआत कर सके।

योजना का नाम अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना
राज्य हिमाचल प्रदेश
राशि 50 हज़ार राज्य सरकार

2.5 लाख केंद्र सरकार

लाभार्थी जोड़े का इंटरकास्ट होना अनिवार्य
आवेदन फार्म उपलब्ध

वैसे हमे यह भी पता है की अभी तक कई लोग एसे है जिन लोगो इस अंतरजातीय विवाह योजना हिमाचल प्रदेश के बारे मे अभी तक भी जानकारी नहीं। और एसे कई युवा है जिनहोने ने जातीय बंधनो को तोड़ कर अन्य जाति के साथ परिणय सूत्र मे बंधे है। तभी तो हम आपको इस योजना के प्रति जागरूक कर रहे है। ताकि सभी युवा इस योजना के तहत लाभ ले सके। इस योजना के तहत 50 हजार रुपए की प्रोत्साहन राशि देने का प्रावधान है।

हिमाचल अंतरजातीय विवाह 3 लाख रूपए प्रोत्साहन योजना 

इस योजना की शुरुआत 2013-14 ,मे हुई थी। पहले इस योजना के तहत सिर्फ 25 हजार रुपए की प्रोत्साहन राशि दी जाति थी। परंतु अभी कुछ समय पहले ही इस योजना के तहत मिलने वाली राशि को 50 हजार रुपए कर दिया । परंतु अब डा. अंबेडकर प्रतिष्ठान संस्थान की तरफ से एसे जोड़ो को अब 2 लाख 50 हजार रुपए की प्रोत्साहन राशि दी जा रही है। इस योजना को हिमाचल मे 1 अप्रैल 2015 से शुरू कर दिया है।

प्रोत्साहन राशि का भुगतान

इस राशि का भुगतान जोड़ो को किशतों के द्वारा ही किया जाएगा।

इस योजना के लाभ लेने के लिए सामान्य जाति के युवक और युवती को अन्य पिछड़ा वर्ग या फिर अनुसूचित जाति वर्ग के युवक और युवती से शादी करनी होगी।

इस योजना के लाभ के लिए जोड़े को कोर्ट मैरिज करना अनिवार्य है।

आप इस योजना के लाभ के लिए अपनी शादी के करीब 1 साल के भीतर ही लाभ ले सकते है। उसके बाद आप इस योजना के लिए आवेदन नहीं कर सकते है।

अगर आप पहले से हि राज्य की किसी अन्य योजना का लाभ ले रहे है तो अप इस योजना के तहत लाभ नहीं ले सकते है।

हिमाचल अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना पात्रता

आवेदक हिमाचल का स्थायी निवासी होना अनिवार्य है।
इस योजना के लिए लाभ के जोड़े मे से एक का सामान्य जाति और दूसरे का अनुसूचित जाति का होना जरूरी है।
यह आपका पहला विवाह होना चाहिए।
यह विवाह हिन्दू विवाह अधिनियम 1955 के तहत होना चाहिए, तभी लाभ मिलेगा।

हिमाचल सरकार अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना के लिए दस्तावेज़

  • जाति प्रमाण पत्र
  • आधार कार्ड
  • जन्म तिथि प्रमाण पत्र /दस्वी पास प्रमाण पत्र
  • स्थायी पता प्रमाण पत्र
  • कोर्ट मैरिज प्रमाण पत्र
  • आधार लिंक के साथ बैंक खाता कॉपी
  • जिला मजिस्ट्रेट का प्रमाण पत्र
  • जिला कल्याण विभाग का लैटर

अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना हिमाचल आवेदन फार्म

दोस्तों हिमाचल के मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी बहुत से सरकारी योजनाओ के शुरुवात कर चुके है. यह योजना पुराणी है लेकिन इस को सुधारने के लिए भी कार्य चल रहा है. आप इस योजना से संबन्धित सभी दस्तावेज लेकर सबसे पहले अपने जिला मजिस्ट्रेट के ऑफिस जाये। वहा पे आपको एक आवेदन पत्र भरना होगा। और उसको जिला कल्याण विभाग के पास जमा करवाना होगा। प्रोत्साहन राशि आपके दिये गए जाइंट खाता मे आएगी। अधिक जानकारी के लिए अधिकारिक वेबसाइट पर जाए.

अगर आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी तो आप इसे शेयर कर सकते है। आप हिमाचल अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना के विषय पर किसी भी प्रकार की जानकारी चाहते है तो ले सकते है।

इस पोस्ट को शेयर करें यहां से

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *